बटशेक ने बोला, "यदि कंपनी की ऐसा कुछ करने की योजना"

बटशेक ने बोला, "यदि कंपनी की ऐसा कुछ करने की योजना"

टाटा मोटर्स घरेलू वाहन मार्केट में जारी मंदी के बाद भी कर्मचारियों की छंटनी नहीं करेगी। कंपनी को अगले कुछ महीनों में मार्केट में उतारे जाने वाले नये प्रोडक्ट्स के दम पर प्रदर्शन में सुधार की उम्मीद है। कंपनी के मुख्य कार्यकारी ऑफिसर एवं प्रबंध निदेशक गुंटर बटशेक ने यह जानकारी दी। जब उनसे पूछा गया कि क्या वाहन क्षेत्र में जारी मंदी के कारण कंपनी कर्मचारियों की छंटनी कर सकती है तो उन्होंने बोला कि उनकी ऐसी कोई भी योजना नहीं है।

बटशेक ने बोला कि यदि कंपनी की ऐसा कुछ करने की योजना होती तो वह पहले ही कर चुकी होती। उन्होंने कहा, 'हम 12 महीने से मंदी के संकट से जूझ रहे हैं। यदि हम छंटनी करना चाहते तो हम पहले ही कर चुके होते। ' उन्होंने बोला कि कंपनी अगले कुछ महीने में एल्ट्रोज, नेक्सन ईवी व ग्रैविटास एसयूवी समेत अन्य प्रोडक्ट्स मार्केट में उतारने वाली है। इसके अतिरिक्त बीएस-6 मानकों के एमिशन नॉर्म्स को भी अपनाना है। उन्होंने कहा, 'मुझे यकीन है कि अर्थव्यवस्था चाहे जिस दिशा में जाए, हम मार्केट से बेहतर प्रदर्शन करने के लिए तैयार हैं। चूंकि इन प्रोडक्ट्स की कीमतें भिन्न-भिन्न हैं, हमारे मुनाफे की संभावनाएं हमेशा की तुलना में बेहतर स्थिति में हैं। अत: मैं अभी काफी पॉज़िटिव हूं। '

बटशेक ने बोला कि कंपनी मौजूदा स्थिति को बदलने के लिए कमर्शियल वीकल क्षेत्र में सभी ज़रूरी कदम उठा रही है। यह क्षेत्र रेवेन्यू के मुद्दे में कंपनी का आधार रहा है। उन्होंने कहा, 'हमारे पास ठीक उत्पाद हैं, हमारा डीलर नेटवर्क अभी बढ़िया कार्य कर रहा है व हमें लगता है कि वास्तव में हम काफी अच्छा कर सकेंगे। ' उन्होंने बोला कि कंपनी के पास लागत में कमी लाने तथा गुणवत्ता नियंत्रित करने के कदम उठाने समेत हर तरह की व्यवस्था है।

उन्होंने कहा, 'इस समय कर्मचारियों की छंटनी करने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि हमें उस समय लोगों की आवश्यकता होगी जब मार्केट बढ़ रहा होगा। ' हालांकि, बटशेक ने माना कि उन्होंने अपने 30 वर्ष के करियर में अब तक इस तरह की अनिश्चितता नहीं देखी है। उन्होंने कहा, 'हमें सजगता से चीजों को देखनेलचीले बने रहने तथा बेहतर समझ अपनाने की आवश्यकता है। हमें अभी जो दिख रहा है वह महज चक्रीय होने से अधिक संरचनात्मक कारणों से हैं। ऐसे में भविष्य अनिश्चित हो जाता है। '