रोहतास के अधिकांश गांव ओडीएफ घोषित, आज भी खुले में शौच करते लोग

रोहतास के अधिकांश गांव ओडीएफ घोषित, आज भी खुले में शौच करते लोग

रोहतास के सूर्यपुरा प्रखंड को चार वर्ष पूर्व ओडीएफ घोषित किए जाने के बाद अधिकांश गांवों में खुले में शौच के  प्रति लोगों की सोच में बदलाव नहीं आ पा रहा है। सड़कों पर शौच किए जाने से राहगीरों तथा सुबह में टहलने निकले लोगो को दुर्गंध से चलना मुश्किल हो गया है।  20  दिसंबर 2016 को सूर्यपुरा प्रखंड को तत्कालीन जिलाधिकारी की मौजूदगी में खुले में शौच मुक्त घोषित किया गया था।

बताया जाता है कि पूर्व में व्यापक पैमाने पर अभियान चलाकर लोगों को खुले में शौच ना करने के प्रति जागरूक किया गया। बाहर शौच करने वाले महिला पुरुष की निगरानी के लिए  गांवो में अलग- अलग टीम गठित की गई थी, ताकि क्षेत्र को खुले में शौच मुक्त कर स्वच्छ व सुंदर बनाया जा सके। घरो का सर्वे कराकर हर घर मे शौचालय का निर्माण कराया गया। उन दिनों लोग कुछ इस कदर जागरूक हुए कि पूरा क्षेत्र साफ व स्वच्छ दिखने लगा था, परंतु आज फिर से लोग पुराने ढर्रे पर चलना शुरू कर दिए हैं।


प्रखंड मुख्यालय से लेकर डबरिया, रामपुर,अगरेड समेंत कई ङ्क्षलक पथोंं की बनी हुई है। बावजूद इसके प्रखंड स्तर के पदाधिकारी इसपर रोक लगाने की दिशा में कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। जबकि इसके लिए अलग विभाग भी बनाया गया है। बीडीओ वीणापाणि ने लोगों से सड़क के किनारे शौच न करने की अपील की है। कहा कि अगर बाहर खुले में शौच करते पकड़े गए तो जुर्माना भुगतना पड़ सकता है।

कुछ इलाकों से ऐसी शिकायतें भी आई हैं, जहां शौचालय निर्माण की राशि लेकर लोग डकार गए तो कहीं प्रशासनिक अधिकारियों ने उन रुपयों से अपनी जेब गरम कर ली। ऐसे इलाके भी हैं, जहां सामुदायिक शौचालय बने लेकिन रखरखाव के आभाव में उनकी दशा बिगड़ गई। कुछ शौचालयों के गेट पर अब भी ताला लटका है।


जहानाबाद में दिल्ली से आए दो भाइयों की डूबने से मौत, पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

जहानाबाद में दिल्ली से आए दो भाइयों की डूबने से मौत, पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

बिहार के जहानाबाद में सोमवार को एक हादसे में दो भाइयों की मौत हो गई। जहानाबाद के मखदुमपुर प्रखंड के सोलहडा पंचायत स्थित नहर में डूबने की वजह से दिल्ली से आए दो चचेरे भाई की मौत हो गई। मौत की खबर आग की तरह पूरे गांव में फैल गई। जानकारी के मुताबिक दोनों चचेरे भाई दादा के श्राद्ध काम में भाग लेने के लिए दिल्ली से गांव आए हुए थे। 


पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा

जानकारी के मुताबिक मरने वालों में राजेश राम का पुत्र सुनील कुमार 14 वर्ष एवं विमलेश प्रसाद का पुत्र दीपक कुमार 15 वर्ष बताया जाता है। दोनों रविवार की देर शाम नहर की ओर घुमने गए थे। पैर फिसल जाने के कारण दोनों गहरे में पानी चले गए और जिसकी वजह डूबने से दोनों की मौत हो गई। देर रात तक घर नहीं लौटने के बाद स्वजनों ने गांव में काफी खोजबीन की। लेकिन दोनों चचेरे भाइयों को कुछ पता नहीं चल सका। सोमवार की सुबह ग्रामीणों ने नहर में दोनों भाइयों के शव को पानी में उपलता देखा। जैसे-तैसे गांव के लोगों ने दोनों भाइयों के शवों को नहर से बाहर निकाला।  शव मिलते ही गांव में कोहराम मच गया।परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल है। घटना की सूचना पुलिस की दी गई। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम को लेकर सदर अस्पताल जहानाबाद भेज दिया।

 
घटना के संबंध में बताया जाता हे कि, दोनों के पिता दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करते हैं। पिता अपने बेटे के साथ पिता के श्राद्धकर्म में शामिल होने दिल्ली से गांव आए थे। सभी लोग श्राद्धकर्म में आए परिजनों के साथ व्यस्त थे। इस घटना से ग्रामीण हतप्रद है। ग्रामीणों ने बताया दोनों किशोर हंसमुख थे। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव को परिजनों को सौंप दिया। इस घटना के बाद स्वजनों का रो रोकर बुरा हाला है।