बिहार में बुजुर्ग महिला ने चंद मिनट में लगवा ली दो वैक्सीन, जानें

बिहार में बुजुर्ग महिला ने चंद मिनट में लगवा ली दो वैक्सीन, जानें

बिहार की राजधानी पटना से सटे गांव में एक महिला के साथ गजब हो गया। यहां 63 साल की एक महिला ने चंद मिनट के अंतराल पर दो अलग-अलग कंपनियों की कोविड वैक्‍सीन लगवा ली। एक ही साथ कोवैक्‍सीन और कोविशील्‍ड दोनों वैक्‍सीन के डोज लेने वाली यह महिला पुनपुन प्रखंड के अवधपुर की रहने वाली है। यह पूरा वाकया इसी प्रखंड की लखना पूर्वी पंचायत के बेल्दारीचक स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय वैक्सीनेशन सेंटर पर पिछले बुधवार को हुआ था। डॉक्‍टर अभी तक महिला की सेहत को लेकर परेशान हैं।

बारी-बारी से दो कतारों में खड़ी हो गई महिला

मिली जानकारी के अनुसार पुनपुन के अवधपुर निवासी रवींद्र महतो की 63 वर्षीया पत्नी सुनीला देवी भी वैक्सीन लेने पहुंची थी। इस वैक्‍सीनेशन सेंटर पर एक ही कमरे में 18 से 45 वर्ष आयु वर्ग और 45 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के लोगों को अलग-अलग टेबल पर वैक्‍सीन दी जा रही थी। दोनों ही आयु वर्ग के लोगों की कतार हॉल में अलग-अलग लगी थी। इस महिला ने पहले एक कतार में और बाद में दूसरी कतार में लगकर दोनों ही वैक्‍सीन की डोज लगवा ली।


स्‍वजनों ने टीकाकरण केंद्र पर पहुंच कर किया हंगामा

उसे कुछ अंतराल पर ही वैक्सीन के दो डोज कोविशील्ड व कोवैक्सीन की दे दी गई। कुछ देर के बाद जब इसकी जानकारी उसके स्वजनों को हुई तो उन्‍होंने टीकाकरण केंद्र पर पहुंच कर हंगामा शुरू कर दिया। पूरे वाकये की जानकारी वहां मौजूद स्वास्थकर्मियों को हुई तो उनके भी होश उड़ गए। बाद में मौके पर मुखिया पति द्वारिक पासवान समेत अन्य लोग पहुंचे और लोगों को समझा-बुझा कर मामले को शांत कराया।


महिला के स्‍वास्‍थ्‍य की लगातार की जा रही निगरानी

तुरंत पूरे वाकये की जानकारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. संजय कुमार को दी गई। इसके बाद उनके निर्देश पर एक चिकित्सकीय टीम ने मौके पर पहुंचकर महिला का स्वास्थ परीक्षण किया। चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि महिला का स्वास्थ्य अब तक ठीक ठाक है। उसकी लगातार निगरानी की जा रही है।

इस वजह से समय रहते पकड़ में नहीं आया मामला


प्रभारी चिकित्‍सा पदाधिकारी ने बताया कि सेंटर पर मौजूद दो एएनएम चंचला कुमारी व सुनीता कुमारी से इस संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की गई है। उन्‍होंने बताया कि आधार कार्ड की जांच कमरे से बाहर ही करने के बाद अंदर भेजा जा रहा था। महिला ने कमरे के अंदर जाने के बाद ही अपनी कतार बदल दो वैक्‍सीन ले ली। इसकी वजह से यह मामला समय रहते पकड़ में नहीं आ सका। पहली वैक्‍सीन लेने के बाद वह कमरे से बाहर निकली नहीं और अंदर ही दूसरी वैक्‍सीन भी ले ली।


बीजेपी के मंत्री ने भरे मंच से बताई मजबूरी, 74 सीट जीतकर भी नीतीश को बनाया बिहार का मुख्यमंत्री

बीजेपी के मंत्री ने भरे मंच से बताई मजबूरी, 74 सीट जीतकर भी नीतीश को बनाया बिहार का मुख्यमंत्री

बिहार की राष्ट्रीय जन तांत्रिक गठबंधन (राजग) में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। जनसंख्या नियंत्रण कानून और जातीय जनगणना को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जनता दल यूनाइटेड में तल्खी सार्वजनिक हो चुकी है। बिहार के पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने एकबार फिर आग में घी का काम कर दिया है। औरंगाबाद में आयोजित भाजयुमो की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में मंत्री ने कहा कि बिहार में काम करना आसान नहीं है, क्योंकि चार-चार विचार धाराएं एक साथ लड़ती हैं। जब नेतृत्व आपका होता है तब चीजें आसान हो जाती हैं। बिहार में हम लोगों के लिए बहुत चुनौती है। उन्होंने कहा कि हमने 74 सीट जीतकर भी नीतीश को सीएम माना है।

पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि बिहार में चार-चार विचारधाराएं साथ चल रही हैं। राज्य में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), जनता दल यूनाइटेड (जदयू), विकासशील इंसान पार्टी (वाआइपी) और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) का गठबंधन है। ऐसे में बहुत कुछ सहना पड़ता है। उन्होंने याद दिलाया कि 2020 में संपन्न विधानसभा चुनाव में बीजेपी 74 सीटें जीतकर आई, वहीं जदयू के 43 विधायकों को सफलता मिली। इसके बाद भी हमने मुख्यमंत्री का पद जदयू को दिया। नीतीश कुमार बिहार के सीएम बने। सम्राट चौधरी ने यह भी कहा कि बीजेपी के लिए ऐसा करना कोई नई बात नहीं है। साल 2000 में जब हम 68 सीटें जीते थे उस समय भी जदयू के 37 विधायक थे, तब भी हमने नीतीश कुमार को ही अपने नेता माना था। बता दें कि हाल ही में बीजेपी के वरिष्ठ नेता व बिहार के पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा था कि हम अकेले बिहार में सरकार बनाने का दम रखते हैं। हाजीपुर में आयोजित भाजपा जिला कार्यसमिति की बैठक में उन्होंने कहा कि 2024 के लोकसभा और 2025 के विधानसभा चुनाव में बिहार में बीजेपी अकेले सरकार बनाने की ताकत रखती है।