यूरिया की किल्‍लत के बीच सांसद विवेक ठाकुर बोले...

यूरिया की किल्‍लत के बीच सांसद विवेक ठाकुर बोले...

सात साल के भाजपा शासन काल में खाद, रसोई गैस व बिजली की किल्लत न तो हुई है और न होगी। इस बार कुछ तकनीकी गड़बड़ी के कारण किल्लत हुआ है, जिसे ठीक किया जा रहा है। उक्त बातें सोमवार की शाम भाजपा नेता व राज्यसभा सदस्य विवेक ठाकुर ने नरहट रोड के जानकी कंप्लेकस स्थित वैदिक उपचार केंद्र सह भाजपा नेता ई. रंजीत कुमार के कार्यालय में कार्यकर्ताओं व उपस्थित लोगों से कही। दरसअल, लोगों ने क्षेत्र में यूरिया खाद की किल्लत व किसानों को हो रही परेशानियों से सांसद को अवगत कराया था। जिसपर उन्होंने त्वरित संज्ञान में लेते हुए कृषि मंत्री से बात कर जानकारी प्राप्त किया और बताया कि 76 हजार बोरी खाद बहुत जल्द नवादा को मिल जाएगा।

इस दौरान वहां उपस्थित आरएसएस व भाजपा कार्यकर्ताओं ने कार्यालय प्रमुख नीरज कुमार निराला कि अगुवाई में सांसद को आगामी दीपावली के अवसर पर जिले के सुदूरवर्ती इलाके के 101 मंदिरों में दीपोत्सव कार्यक्रम मानने के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। सांसद के आने से सभी कार्यकर्ताओं में उत्साह दिखा। ई. रंजीत ने भी सिंगापुर से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से कार्यकर्ताओं के साथ सांसद का स्वागत किया। मौके पर भाजपा नवादा जिलाध्यक्ष संजय कुमार मुन्ना, उपाध्यक्ष विजय पांडे, उपाध्यक्ष नीतिनंदन, कोषाध्यक्ष जितेंद्र पासवान,प्रमोद कुमार चुन्नु, नारदीगंज मंडल के अध्यक्ष विपिन सिंह, मोहन चंद्रवंशी, स्वयंसेवक परमेंदर जी, धर्मेंद्र कुमार, डॉ शैलेंद्र प्रसून, रजनीश सिंह , श्रीराम शर्मा , कौशल किशोर, बंटी, सहित दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

संसू, सिरदला : सोमवार को सिरदला फूल बगान चौक पर सांसद विवेक कुमार ठाकुर का भाजपा कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया। इस दौरान सांसद ने गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत क्षेत्र के बरदाहा स्थित बच्चू चौधरी के पीडीएस दुकान पर पहुंचकर 100 गरीबों के बीच अन्न का थैला का वितरित किया। मौके पर मोहन कुमार गुप्ता, मोती राम, भाजपा प्रखंड अध्यक्ष महेश राय, नीरज कुमार गुप्ता, हरिश्चंद्र राजवंशी, नरेश कुमार, यमुना राजवंशी, अशोक कुमार राम, परशुराम सिंह समेत दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित थे।


सांसद ने मेसकौर में थैला वितरण कार्यक्रम में लिया भाग

संसू, मेसकौर : सोमवार की शाम मेसकौर स्थित जन वितरण प्रणाली के पूर्व विक्रेता स्वर्गीय विश्वनाथ प्रसाद कान्धवे के पैतृक आवास के समीप भाजपा सांसद विवेक ठाकुर पहुंचे। उन्होंने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गरीबों के बीच थैला में अनाज का वितरण अपने हाथों से किया। कार्यक्रम में उपस्थित स्थानीय मुखिया रामानंद प्रसाद ने राशन योजना से वंचितों को इसका लाभ दिलाने का आग्रह सांसद से किया। जिसपर उन्होंने उचित कार्रवाई का भरोसा दिलाया। मौके पर मेसकौर मंडल अध्यक्ष सुनील कुमार, संजय चौधरी सहित दर्जनों भाजपा कार्यकर्ता एवं प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के लाभार्थी मौजूद रहे।


बिहार में जमीन से जुड़े विवादों की सुनवाई फिर शुरू करेंगे डीसीएलआर

बिहार में जमीन से जुड़े विवादों की सुनवाई फिर शुरू करेंगे डीसीएलआर

डीसीएलआर (भूमि सुधार उप समाहर्ता) फिर से जमीन से जुड़े विवादों की सुनवाई कर सकेंगे। वे किसी विवादित जमीन के बारे में यह तय करेंगे कि इसका वास्तविक मालिक कौन है। इसे टाइटिल सूट या स्वत्ववाद कहते हैं। करीब आठ साल से चल रहे अदालती विवाद में सुप्रीम कोर्ट की दखल के बाद डीसीएलआर को यह अधिकार मिल गया है। इस संबंध में राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अपर मुख्य सचिव विवेक कुमार सिंह ने गुरुवार को आदेश जारी कर दिया है। 

मालूम हो कि बिहार भूमि विवाद निराकरण अधिनियम 2009 के जरिए डीसीएलआर को भूमि विवाद की सुनवाई करने का अधिकार दिया गया था। व्यवहार न्यायालयों से यह अधिकार वापस ले लिया गया था। इस अधिनियम को महेश्वर मंडल नामक रैयत ने 2013 में पटना हाई कोर्ट में चुनौती दी। हाई कोर्ट में पांच साल तक सुनवाई चली। हाई कोर्ट ने 2018 में आदेश दिया कि डीसीएलआर टाइटिल सूट  की सुनवाई नहीं करेंगे। इस पर अमल करने के लिए राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने नवम्बर 2018 में आदेश जारी कर डीसीएलआर को अदालती सुनवाई करने से रोक दिया। हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ विभाग सुप्रीम कोर्ट गया। सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के आदेश के उस हिस्से को स्थगित कर दिया, जिससे डीसीएलआर को सुनवाई से रोका गया था। राजस्व विभाग ने गुरुवार को कहा कि वह नवम्बर 2019 के अपने आदेश को वापस ले रहा है, जिसके जरिए डीसीएलआर को सुनवाई करने से रोका गया था।  अब डीसीएलआर रैयती मामलों से संबंधित वादों की सुनवाई शुरु करेंगे। वे पूर्व के मामलों में पारित आदेशों का कार्यान्वयन भी करेंगे। 


इन मामलों की होगी सुनवाई

अतिक्रमण, अनाधिकृत संरचना निर्माण, सीमा विवाद, आवंटित बंदोबस्तधारी की बेदखली, भूखंड का विभाजन, सर्वे नक्शा सहित स्वामित्व के अभिलेख में दर्ज विवरण में संशोधन। राजस्व विभाग के ताजा आदेश के बाद इन मामलों की सुनवाई अब व्यवहार न्यायालयों में नहीं होगी।